उपभोक्ता योजना

               उपभोक्ताओं को दैनिक उपयोग की आवश्यक वस्तुएं उचित मूल्य पर उपलब्ध कराने के उद्देश्य से न्याय पंचायत, जनपद एवं प्रदेश स्तर पर स्वायत्तशासी संस्थाओ के माध्यम से योजना का संचालन किया जा रहा है। यह योजना सम्पूर्ण प्रदेश में लागू है।
            इस योजनान्तर्गत 1978 सहकारी समितियो द्वारा पूरे प्रदेश मे उपभोक्ता सामग्री की आपूर्ति की जा रही है, जिसमें से 1498 समितिया ग्रामीण प्रदेश और 480 समितिया नगरीय क्षेत्र मे कार्यरत है। योजनान्तर्गत प्रदेश स्तर पर शीर्ष संस्था के रूप मे उ0प्र0 उपभोक्ता सहकारी संघ लि0 एंव जनपद स्तर पर 48 केन्द्रीय उपभोक्ता सहकारी भण्डार भी कार्यरत है। उपर्युक्त समितिया स्थानीय व्यवस्था के अन्र्तगत निजी संसाधनो का उपयोग कर, थोक दरो पर सामग्री क्रय करती है तथा खुदरा दर निर्धारित कर उपभोक्ताओ को उपलब्ध कराती है। इन सहकारी समितियो से कोई भी व्यक्ति सामान खरीद सकता है। उपर्युक्त के अतिरिक्त उ0प्र0 उपभोक्ता सहकारी संघ लि0 एवं कतिपय केन्द्रीय उपभोक्ता सहकारी भण्डार शासन की नीति के अनुरूप मूल्य सर्मथन योजनान्तर्गत गेहॅू एवं धान क्रय का भी कार्य करते है इन समितियो द्वारा वर्ष 2015-16 हेतु निर्धारित वार्षिक लक्ष्य मु0 38725.44 लाख रू0 के सापेक्ष मु0 29397.05 लाख रू0 का उपभोक्ता व्यवसाय किया गया है जिसमे ग्रामीण उपभोक्ता व्यवसाय रू0 5856.57 लाख   तथा नगरीय उपभोक्ता व्यवसाय रू0 23540.48 लाख रहा

 

क्रमांक विवरण/मद 2013-14 2014-15 2015-16
  उपभोक्ता व्यवसाय करने वाली अन्य समितियां 29062.51 29350.22 29397.05



 

      कृषि निवेश         क्रय-विक्रय        उपभोक्ता               आडिट             सम्पर्क सूत्र           HOME